कॉलेजियम ने 16 अतिरिक्त न्यायाधीशो को बॉम्बे, केरल, छत्तीसगढ़ के उच्च न्यायालयों में स्थायी बनाने की अनुशंषा की [विवरण पढ़ें]
Collegium

कॉलेजियम ने 16 अतिरिक्त न्यायाधीशो को बॉम्बे, केरल, छत्तीसगढ़ के उच्च न्यायालयों में स्थायी बनाने की अनुशंषा की [विवरण पढ़ें]

कुल 16 अतिरिक्त न्यायाधीशों को स्थायी न्यायाधीश बनाने का प्रस्ताव है। कॉलेजियम के बयानों के अनुसार, यह 5 अप्रैल, सोमवार को निकाय द्वारा अनुमोदित किया गया था।

सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम ने तीन बयान जारी किए हैं जिसमें सिफारिश की गई है कि बॉम्बे, केरल और छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालयों के कुछ अतिरिक्त न्यायाधीशों को स्थायी न्यायाधीश बनाया जाए।

कुल 16 अतिरिक्त न्यायाधीशों को स्थायी न्यायाधीश बनाने का प्रस्ताव है। कॉलेजियम के बयानों के अनुसार, यह 5 अप्रैल, सोमवार को निकाय द्वारा अनुमोदित किया गया था।

बॉम्बे उच्च न्यायालय के लिए, स्थायी न्यायाधीशों के रूप में नियुक्ति के लिए निम्नलिखित 10 न्यायाधीशों का प्रस्ताव किया गया है:

  1. न्यायमूर्ति अविनाश गुनवंत घरोटे,

  2. न्यायमूर्ति नितिन भगवंतराव सूर्यवंशी,

  3. न्यायमूर्ति अनिल सत्यविजय किलर,

  4. न्यायमूर्ति मिलिंद नरेंद्र जाधव,

  5. न्यायमूर्ति एमजी सेवलिकर,

  6. न्यायमूर्ति वीजी बिष्ट,

  7. न्यायमूर्ति देवव्रत भालचंद्र उग्रसेन,

  8. न्यायमूर्ति एमएस जावलकर,

  9. न्यायमूर्ति एसपी तावड़े, और

  10. न्यायमूर्ति एनआर बोरकर

केरल उच्च न्यायालय के लिए, स्थायी न्यायाधीश के रूप में नियुक्ति के लिए निम्नलिखित 5 न्यायाधीश प्रस्तावित किए गए हैं:

  1. न्यायमूर्ति कॉनराड एस डायस,

  2. न्यायमूर्ति पीवी कुन्हीकृष्णन,

  3. न्यायमूर्ति टीआर रवि,

  4. न्यायमूर्ति बेचू कुरियन थॉमस, और

  5. न्यायमूर्ति गोपीनाथ पी

छत्तीसगढ़ उच्च न्यायालय के लिए, न्यायमूर्ति विमला सिंह कपूर को उच्च न्यायालय के स्थायी न्यायाधीश के रूप में नियुक्ति के लिए सिफारिश की गई है।

[कॉलेजियम के विवरण पढ़ें]

Attachment
PDF
Bombay_High_Court___Collegium_Resolution.pdf
Preview
Attachment
PDF
Kerala_High_Court___Collegium_Resolution.pdf
Preview
Attachment
PDF
Chhattisgarh_High_Court___Collegium_Resolution.pdf
Preview

और अधिक पढ़ने के लिए नीचे दिये गए लिंक पर क्लिक करें


Collegium recommends making 16 Additional Judges permanent in High Courts of Bombay, Kerala, Chhattisgarh [Read Statements]

No stories found.
Hindi Bar & Bench
hindi.barandbench.com