दिल्ली हाईकोर्ट ने मैजिक मोमेंट्स को दी अंतरिम राहत; 'इवनिंग मोमेंट' चिह्न के इस्तेमाल पर रोक

हाईकोर्ट ने कहा कि 'मैजिक मोमेंट्स' और 'इवनिंग मोमेंट' शब्द भ्रामक रूप से एक जैसे हैं क्योंकि अनिवार्य फीचर 'मोमेंट' का पूरी तरह से इस्तेमाल किया जा रहा है।
दिल्ली हाईकोर्ट ने मैजिक मोमेंट्स को दी अंतरिम राहत; 'इवनिंग मोमेंट' चिह्न के इस्तेमाल पर रोक
Magic Moments

दिल्ली उच्च न्यायालय ने सोमवार को शराब ब्रांड 'मैजिक मोमेंट्स' के पक्ष में अंतरिम निषेधाज्ञा दी, एक अन्य कंपनी को 'इवनिंग मोमेंट' नाम से शराब बेचने या निर्माण करने से रोक दिया। [रेडिको खेतान लिमिटेड बनाम साराओ डिस्टिलरी (ओपीसी) प्रा. लिमिटेड और अन्य]।

न्यायमूर्ति प्रतिभा एम सिंह ने कहा कि 'मैजिक मोमेंट्स' और 'इवनिंग मोमेंट' शब्द इस तथ्य के मद्देनजर भ्रामक रूप से समान हैं कि प्रतिवादियों द्वारा आवश्यक फीचर 'मोमेंट' का पूरी तरह से उपयोग किया जा रहा है, जो उपभोक्ताओं को दो उत्पादों को जोड़ने के लिए प्रेरित कर सकता है।

उच्च न्यायालय की वेबसाइट पर गुरुवार को अपलोड किए गए आदेश में एकल न्यायाधीश ने फैसला सुनाया "यह आसानी से माना जा सकता है कि प्रतिवादी का उत्पाद वादी के उत्पाद-स्थिर में एक और अतिरिक्त है। इसके अलावा, 'ईवनिंग' शब्द का उपयोग उत्पाद की प्रकृति के कारण दो उत्पादों को अलग करने के लिए पर्याप्त नहीं है जो आमतौर पर शाम के समय में खाया जाता है। फोकस 'MOMENT' शब्द पर होगा जो कि लगाए गए निशान का प्रमुख हिस्सा है।"

कोर्ट मैजिक मोमेंट्स के मालिकों रेडिको खेतान लिमिटेड द्वारा सराओ डिस्टिलरी (ओपीसी) प्राइवेट लिमिटेड के खिलाफ दायर एक ट्रेडमार्क उल्लंघन के मुकदमे की सुनवाई कर रहा था, जिसने इवनिंग मोमेंट ब्रांड नाम के तहत अपनी शराब बेची थी।

यह बताया गया कि अदालत ने 22 मार्च, 2021 को अपने आदेश में वादी के पक्ष में पहले ही निषेधाज्ञा दे दी थी, जहां प्रतिवादियों को 'इवनिंग मोमेंट' ब्रांड के तहत अपनी शराब बेचने से रोक दिया गया था।

और अधिक पढ़ने के लिए नीचे दिये गए लिंक पर क्लिक करें


Delhi High Court grants interim relief to Magic Moments; restrains use of mark 'Evening Moment'