स्वतंत्र भाषण को उत्साहपूर्वक संरक्षित करने की जरूरत है, खासकर पत्रकारों के लिए: न्यायमूर्ति सूर्यकांत

न्यायमूर्ति सूर्यकांत वरिष्ठ अधिवक्ता चंदर एम लाल की पुस्तक 'तुलनात्मक विज्ञापन: कानून और अभ्यास' के विमोचन के अवसर पर बोल रहे थे।
Justice Surya Kant
Justice Surya Kant

सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश न्यायमूर्ति सूर्यकांत ने हाल ही में कहा कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के अधिकार को उत्साहपूर्वक संरक्षित करने की जरूरत है, खासकर पत्रकारों और मीडिया के लिए।

न्यायमूर्ति कांत ने कहा कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के अधिकार को कम करने के लिए नवीन और अलग-अलग तरीके ईजाद किए जा सकते हैं लेकिन ऐसे प्रयासों को अदालतों ने दृढ़ता से अस्वीकार कर दिया है।

उन्होंने कहा, "इसमें कोई दो राय नहीं हो सकती कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के अधिकार को उत्साहपूर्वक संरक्षित करने की आवश्यकता है और हमें उस अधिकार की रक्षा के लिए सभी उपाय करने चाहिए। अलग-अलग तरीकों से कुछ प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष प्रयास हो सकते हैं [स्वतंत्र भाषण के अधिकार को कम करने के लिए] क्योंकि यह एक अभिनव दुनिया है और लोग विभिन्न प्रकार के तरीकों और तंत्रों का आविष्कार करते रहते हैं। कभी-कभी इस अधिकार को कुचलने के लिए इनका दुरुपयोग किया जाता है। लेकिन मुझे लगता है कि हमारा सिस्टम ऐसा है... यह [अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता] न केवल एक संवैधानिक गारंटी है बल्कि गरिमापूर्ण जीवन के अधिकार का एक हिस्सा है। गरिमापूर्ण जीवन के इस अधिकार में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार भी शामिल है।"

विशेष रूप से पत्रकारों की अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर, न्यायमूर्ति कांत ने कहा कि मीडिया पर लगाम लगाने के प्रयासों को अदालतों ने अस्वीकार कर दिया है।

न्यायमूर्ति कांत वरिष्ठ अधिवक्ता चंदर एम लाल द्वारा लिखित 'तुलनात्मक विज्ञापन: कानून और अभ्यास' नामक पुस्तक के लॉन्च पर बोल रहे थे।

10 मई को आयोजित पुस्तक लॉन्च में सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश न्यायमूर्ति केवी विश्वनाथन, दिल्ली उच्च न्यायालय के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश मनमोहन और दिल्ली उच्च न्यायालय के न्यायाधीश न्यायमूर्ति विभू बाखरू भी उपस्थित थे।

वरिष्ठ अधिवक्ता लाल के साथ न्यायाधीशों ने वरिष्ठ पत्रकार विक्रम चंद्रा द्वारा संचालित चर्चा में भाग लिया।

और अधिक पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें


Free Speech needs to be zealously protected, especially for journalists: Justice Surya Kant

Related Stories

No stories found.
Hindi Bar & Bench
hindi.barandbench.com