प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर ट्वीट के लिए असम में दर्ज मामले में जिग्नेश मेवाणी को जमानत मिली

असम पुलिस ने जिग्नेश मेवाणी के खिलाफ दो समुदायों के बीच दुश्मनी पैदा करने की साजिश रचने समेत अन्य धाराओं में मामला दर्ज किया था।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर ट्वीट के लिए असम में दर्ज मामले में जिग्नेश मेवाणी को जमानत मिली
jignesh mevani

NDTV ने बताया कि असम की एक अदालत ने सोमवार को गुजरात के विधायक जिग्नेश मेवाणी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर उनके दो ट्वीट्स के संबंध में एक शिकायत के संबंध में जमानत दे दी।

असम के भाजपा नेता अरूप डे की शिकायत के आधार पर विधायक और दलित अधिकार कार्यकर्ता को रविवार को गिरफ्तार कर एक दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया था।

असम पुलिस ने जिग्नेश मेवाणी के खिलाफ दो समुदायों के बीच दुश्मनी पैदा करने की साजिश रचने समेत अन्य धाराओं में मामला दर्ज किया था।

कोर्ट ने अपना आदेश सुरक्षित रखने से पहले रविवार को जमानत याचिका पर सुनवाई की थी।

इकोनॉमिक टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार, कोकराझार के मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट ने बुधवार देर रात गुजरात से गिरफ्तारी के बाद नेता को तीन दिन के पुलिस रिमांड पर भेज दिया था।

रिपोर्ट में कहा गया है कि रविवार को हुई सुनवाई में पुलिस ने रिमांड बढ़ाने की मांग की थी, जिसमें आरोप लगाया गया था कि मेवाणी अपने फोन का पासवर्ड साझा करने से इनकार कर पुलिस का सहयोग नहीं कर रहे हैं।

और अधिक पढ़ने के लिए नीचे दिये गए लिंक पर क्लिक करें


Jignesh Mevani gets bail in case registered in Assam for tweets on Prime Minister Narendra Modi