अधिवक्ता ने न्यायपालिका के खिलाफ अपमानजनक ट्वीट के लिए कंगना रनौत के खिलाफ महाधिवक्ता से अवमानना कार्यवाही की सहमति की मांग

वकील ने महाराष्ट्र के एडवोकेट जनरल को पत्र लिखकर कंगना रनौत के खिलाफ जनहित में अवमानना कार्यवाही शुरू करने की मांग की है
अधिवक्ता ने न्यायपालिका के खिलाफ अपमानजनक ट्वीट के लिए कंगना रनौत के खिलाफ महाधिवक्ता से अवमानना कार्यवाही की सहमति की मांग
Kangana Ranaut, AG Ashutosh Kumbhakoni`

मुंबई स्थित एडवोकेट अली कासिफ खान देशमुख ने महाराष्ट्र के एडवोकेट जनरल आशुतोष कुंभकोनी को पत्र लिखकर कंगना रनौत के खिलाफ अपने ट्विटर पर न्यायपालिका को पप्पू सेना अपमानजनक शब्द पर अवमानना कार्यवाही शुरू करने के लिए सहमति की मांग की है।

देशमुख ने महाधिवक्ता को बताया कि कैसे रनौत सरकार, सरकारी एजेंसियों और न्यायपालिका के खिलाफ अपमानजनक तरीके से अपने ट्विटर हैंडल पर बयान और टिप्पणियां दे रही हैं।

उन्होंने कहा कि रानौत विभिन्न धार्मिक समूहों के बीच देश में घृणा का माहौल बनाने के कुत्सित इरादों और पूर्व नोटिस के साथ बयान दे रही थी।

उन्होंने टिप्पणी की कि "प्रत्येक भारतीय नागरिक को अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार है, न कि 'घृणास्पद' भाषण की स्वतंत्रता का।"

देशमुख ने एजी को सूचित किया कि उन्होंने धार्मिक घृणा और दुश्मनी फैलाने में रानौत और उसकी बहन रंगोली चंदेल के दुर्भावनापूर्ण कृत्यों के खिलाफ संज्ञान लेने के लिए दो मौकों पर मुंबई पुलिस से संपर्क किया था।

हालांकि, पुलिस स्टेशन ने उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करने से इनकार कर दिया था, यही वजह है कि वह अंधेरी कोर्ट में रानौत के खिलाफ आपराधिक शिकायत दर्ज करने के लिए मजबूर थे।

उन्होंने मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट के ध्यान में भी लाया था कि "रनौत न्यायपालिका को पप्पू सेना की संज्ञा देकर अदालत की आपराधिक अवमानना कर रही है।"

उन्होंने एजी को अवगत कराया कि बांद्रा में मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट के समक्ष इसी तरह की शिकायत में, अदालत ने संबंधित पुलिस को बहनों के खिलाफ शिकायत दर्ज करने का आदेश दिया था।

और अधिक पढ़ने के लिए नीचे दिये गए लिंक पर क्लिक करें

Lawyer seeks Advocate General’s consent for initiating contempt against Kangana Ranaut for her derogatory tweets against judiciary

Related Stories

No stories found.
Hindi Bar & Bench
hindi.barandbench.com