[अमेज़न बनाम फ्यूचर] इमरजेंसी अवार्ड की प्रवर्तनीयता पर दिल्ली उच्च न्यायालय के समक्ष कार्यवाही पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक

दिल्ली उच्च न्यायालय की एक खंडपीठ ने 22 मार्च को एकल न्यायाधीश के आदेश पर रोक लगा दी थी, जिसमें फ्यूचर ग्रुप की कंपनियों और किशोर बियानी की संपत्तियों की कुर्की के निर्देश थे।
[अमेज़न बनाम फ्यूचर] इमरजेंसी अवार्ड की प्रवर्तनीयता पर दिल्ली उच्च न्यायालय के समक्ष कार्यवाही पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को रिलायंस के साथ फ्यूचर ग्रुप के सौदे के खिलाफ इमरजेंसी अवार्ड लागू करने से संबंधित दिल्ली उच्च न्यायालय की कार्यवाही पर रोक लगा दी।

जस्टिस रोहिंटन फली नरीमन, हृषिकेश रॉय और बीआर गवई की खंडपीठ ने अमेज़ॅन की एक अपील को सुनने के बाद स्टे दे दिया, जिसमे दिल्ली उच्च न्यायालय की एक डिवीजन बेंच द्वारा दिए गए आदेश को चुनौती दी गयी थी जिसके द्वारा एकल न्यायाधीश के आदेश पर रोक लगा दी गयी थी।

स्टे का निर्देश देते हुए, कोर्ट ने 4 मई, 2021 को सुनवाई के लिए मामले को सूचीबद्ध किया।

आदेश मे कहा गया कि, “दिल्ली उच्च न्यायालय की एकल न्यायाधीश और डिवीजन बेंच के समक्ष आगे की कार्यवाही पर रोक लगाई जाती है। 4 मई को सुनवाई होगी।“

जस्टिस जेआर मिड्ढा की सिंगल जज बेंच ने माना था कि फ्यूचर रिटेल, फ्यूचर कूपन, किशोर बियानी और अन्य प्रमोटर्स, डायरेक्टर्स ने इमरजेंसी अवार्ड का उल्लंघन किया है। इसने फ्यूचर ग्रुप की कंपनियों, बियानी और अन्य प्रतिवादी पक्षों पर 20 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया ।

जस्टिस मिड्ढा ने फ्यूचर ग्रुप को भी निर्देश दिया था कि वह रिलायंस के साथ डील को आगे बढ़ाने में कोई कोताही न बरतें, यह मानते हुए कि इमरजेंसी आर्बिट्रेटर ने फ्यूचर ग्रुप की कंपनियों के संबंध में ग्रुप ऑफ कंपनी के सिद्धांत को सही ठहराया था।

फ्यूचर ग्रुप की कंपनियों ने अपील में दिल्ली उच्च न्यायालय की डिवीजन बेंच का रुख किया । डिवीजन बेंच ने बाद में एकल न्यायाधीश के आदेश पर रोक लगा दी।

एकल न्यायाधीश के आदेश के खिलाफ फ्यूचर की अपील में नोटिस जारी करते हुए मुख्य न्यायाधीश डीएन पटेल और न्यायमूर्ति जसमीत सिंह की खंडपीठ ने कहा था,

"हम अगली सुनवाई की तारीख तक 18 मार्च, 2021 को दिए गए एकल न्यायाधीश के आदेश पर रोक लगाते हैं ..."

इसने शीर्ष अदालत के समक्ष अमेज़न द्वारा वर्तमान अपील को प्रेरित किया।

अमेज़ॅन ने तर्क दिया कि 18 मार्च के डिवीजन बेंच आदेश में निहित टिप्पणियों का संबंध केवल फ्यूचर रिटेल से है, अन्य से नहीं।

इसके अलावा, यह प्रस्तुत किया गया कि डिवीजन बेंच इसकी सराहना करने में विफल रही कि पंचाट और सुलह अधिनियम के तहत किए गए आदेश तभी उचित हैं जब अपील के अधिकार के लिए विशेष रूप से प्रदान करने वाले अधिनियम के तहत एक प्रावधान मौजूद हो।

अपील में कहा गया है कि डिवीजन बेंच ने तात्कालिक मामले में अधिकार क्षेत्र संभालने के लिए डिवीजन बेंच के 18 मार्च के आदेश में उल्लिखित कारणों पर भरोसा करने की गलती की।

अमेजन ने यह भी कहा कि अंतरिम आदेश जारी करते हुए डिवीजन बेंच ने तयशुदा सिद्धांत को नजरअंदाज कर दिया कि अधिनियम एक पूर्ण संहिता है और यदि अधिनियम की धारा 37 के तहत कुछ आदेशों के खिलाफ कोई अपील प्रदान नहीं की जाती है तो नागरिक प्रक्रिया संहिता सहित किसी अन्य कानून के प्रावधानों के संदर्भ में अपील कायम नहीं है।

और अधिक पढ़ने के लिए नीचे दिये गए लिंक पर क्लिक करें


[Amazon v. Future] Supreme Court stays proceedings before Delhi High Court on enforceability of Emergency Award

No stories found.
Hindi Bar & Bench
hindi.barandbench.com