COVID-19 के खिलाफ एलोपैथी की प्रभावकारिता पर टिप्पणियो के संबंध में रामदेव ने उनके खिलाफ दर्ज कई FIR के लिए SC का रुख किया

योग गुरु ने पटना और रायपुर शाखाओं में इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) द्वारा दर्ज की गई एफआईआर की कार्यवाही पर रोक लगाने की मांग की है और एफआईआर को दिल्ली की एक अदालत में स्थानांतरित करने के लिए कहा है।
COVID-19 के खिलाफ एलोपैथी की प्रभावकारिता पर टिप्पणियो के संबंध में रामदेव ने उनके खिलाफ दर्ज कई FIR के लिए SC का रुख किया
Baba Ramdev, Supreme Court

योग गुरु बाबा रामदेव ने एलोपैथी पर अपनी टिप्पणी को लेकर विभिन्न राज्यों में उनके खिलाफ दर्ज कई मामलों की कार्यवाही पर रोक लगाने के लिए सुप्रीम कोर्ट का रुख किया है, जिसमें उन्होंने कोविड -19 के उपचार प्रोटोकॉल पर डॉक्टरों की आलोचना की थी।

रामदेव ने पटना और रायपुर शाखाओं में इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) द्वारा दर्ज प्राथमिकी रिपोर्ट (एफआईआर) में कार्यवाही पर रोक लगाने की मांग की और प्राथमिकी को दिल्ली की एक अदालत में स्थानांतरित करने के लिए कहा।

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) की छत्तीसगढ़ इकाई द्वारा शिकायत दर्ज किए जाने के बाद रामदेव के खिलाफ मामले दर्ज किए गए थे।

रामदेव पर धारा 188 (लोक सेवक द्वारा विधिवत आदेश की अवज्ञा), 269 (जीवन के लिए खतरनाक बीमारी के संक्रमण को फैलाने की लापरवाही से कार्य करना), 504 (शांति भंग करने के इरादे से जानबूझकर अपमान) और आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 के अन्य प्रावधानों के तहत मामला दर्ज किया गया है।

आईएमए की शिकायत के अनुसार, पिछले एक साल से, रामदेव कथित तौर पर चिकित्सा बिरादरी, भारत सरकार, भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) और अन्य अग्रिम पंक्ति के संगठनों द्वारा कोरोनावायरस संक्रमण के उपचार में उपयोग की जा रही दवाओं के खिलाफ सोशल मीडिया पर गलत सूचना का प्रचार कर रहे हैं।

सोशल मीडिया पर उनके कई वीडियो हैं जिनमें उन्होंने कथित तौर पर इस तरह की भ्रामक टिप्पणी की थी।

और अधिक पढ़ने के लिए नीचे दिये गए लिंक पर क्लिक करें


[BREAKING] Baba Ramdev moves Supreme Court against multiple FIRs against him in relation to comments on Allopathy's efficacy against COVID-19

No stories found.
Hindi Bar & Bench
hindi.barandbench.com