[ब्रेकिंग] सुप्रीम कोर्ट द्वारा शारीरिक सुनवाई फिर से शुरू करने पर जल्द ही फैसला लेने की संभावना है

यह बात सुप्रीम कोर्ट के जज जस्टिस अशोक भूषण ने मराठा जाति के आरक्षण के मामले की सुनवाई के दौरान खुली अदालत में कही थी।
Supreme Court
Supreme Court

सुप्रीम कोर्ट द्वारा जल्द ही इस पर कोई फैसला लेने की संभावना है कि वह शारीरिक सुनवाई फिर से शुरू करेगा या नहीं।

यह बात सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश, न्यायमूर्ति अशोक भूषण ने खुली अदालत में महाराष्ट्र राज्य आरक्षण के तहत सामाजिक और शैक्षणिक रूप से पिछड़े वर्ग (एसईबीसी) अधिनियम के तहत मराठा जाति के आरक्षण के मामले की सुनवाई के दौरान कही।

क्या हम आभासी सुनवाई के साथ जारी रखेंगे या शारीरिक सुनवाई 25 तारीख तक तय की जाएगी। हम मामले को 2 सप्ताह के बाद निर्देश देने के लिए रखेंगे, ताकि हमें पता चले कि हम कब से शारीरिक सुनवाई शुरू कर रहे हैं।

टिप्पणी में महाराष्ट्र सरकार के वरिष्ठ वकील मुकुल रोहतगी द्वारा मामले की शारीरिक सुनवाई करने का आग्रह किया

न्यायालय अब 5 फरवरी को इस मामले को उठाएगा, उस समय तक इस बात पर स्पष्टता होगी कि क्या सर्वोच्च न्यायालय भौतिक कामकाज को वापस करेगा।

शीर्ष अदालत 23 मार्च, 2020 से वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से काम कर रही है। शीर्ष अदालत ने 23 मार्च को अदालत परिसर में वकीलों और वादियों के प्रवेश को निलंबित करते हुए एक परिपत्र जारी किया था और निर्देश दिया था कि केवल वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से सुनवाई के लिए आवश्यक मामले उठाए जाएंगे।

वीडियोकॉन्फ्रेंसिंग कोर्ट द्वारा वीडियो ऐप के माध्यम से संचालित की जाती है जिसे मोबाइल फोन और डेस्कटॉप पर डाउनलोड किया जा सकता है।

कोर्ट ने सितंबर 2020 में शारीरिक सुनवाई को फिर से शुरू करने का प्रयास किया था लेकिन थोड़ी सफलता मिली।

और अधिक पढ़ने के लिए नीचे दिये गए लिंक पर क्लिक करें

[BREAKING] Supreme Court likely to take a call soon on resuming physical hearing

Hindi Bar & Bench
hindi.barandbench.com