केंद्र ने मुख्य न्यायाधीश से अनुरोध किया कि वे SC/ST,OBC,अल्पसंख्यको, महिला उम्मीदवारो को जजशिप के लिए विचार करे:किरेन रिजिजू

कानून मंत्री ने तमिलनाडु के सांसद पी विल्सन को लिखे एक पत्र में भी यही कहा था, जिन्होंने उच्चतम न्यायालय और उच्च न्यायालय में सामाजिक विविधता की कमी को उजागर करते हुए रिजिजू को लिखा था।
केंद्र ने मुख्य न्यायाधीश से अनुरोध किया कि वे SC/ST,OBC,अल्पसंख्यको, महिला उम्मीदवारो को जजशिप के लिए विचार करे:किरेन रिजिजू

केंद्र सरकार उच्च न्यायालयों के मुख्य न्यायाधीशों से अनुरोध किया कि वे उच्च न्यायालयों के न्यायाधीशों की नियुक्ति के लिए प्रस्ताव भेजते समय अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यकों और महिलाओं के उम्मीदवारों पर उचित ध्यान दें।

केंद्रीय कानून मंत्री किरेन रिजिजू ने उच्च न्यायालयों और सर्वोच्च न्यायालय में अधिक सामाजिक विविधता सुनिश्चित करने के लिए विल्सन के पत्र का जवाब देते हुए संसद सदस्य पी विल्सन को लिखे एक पत्र में यही कहा।

रिजिजू ने अपने जवाब में कहा कि भारत का संविधान जो सर्वोच्च न्यायालय और उच्च न्यायालयों में न्यायाधीशों की नियुक्ति का प्रावधान करता है, किसी भी जाति या वर्ग के व्यक्तियों के लिए आरक्षण का प्रावधान नहीं करता है।

हालांकि, केंद्र मुख्य न्यायाधीशों से अनुरोध करता रहा है कि सामाजिक विविधता सुनिश्चित करने के लिए इस तरह के विचारों को उचित महत्व दिया जाए।

पत्र मे कहा गया कि, "सरकार उच्च न्यायालयों के मुख्य न्यायाधीशों से अनुरोध करती रही है कि उच्च न्यायालयों में न्यायाधीशों की नियुक्ति में सामाजिक विविधता सुनिश्चित करने के लिए अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यक और महिलाओं से संबंधित उपयुक्त उम्मीदवारों को न्यायाधीशों की नियुक्ति के लिए प्रस्ताव भेजते समय उचित विचार किया जाना चाहिए।"

वर्तमान में, उच्च न्यायालय में न्यायाधीशों की नियुक्ति उस उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश की अध्यक्षता में संबंधित उच्च न्यायालय के एक कॉलेजियम द्वारा शुरू की जाती है।

हाईकोर्ट कॉलेजियम द्वारा चुने गए नामों को सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम को भेजा जाता है जो इसे मंजूरी देता है या वापस कर देता है।

इसके बाद स्वीकृत नामों को केंद्र की मंजूरी के लिए केंद्रीय कानून मंत्रालय को भेजा जाता है।

विल्सन, जो स्वयं एक वरिष्ठ अधिवक्ता हैं, ने सरकार को लिखे अपने पत्रों में उच्च न्यायपालिका में विविधता की कमी को बार-बार उजागर किया है।

वह देश के प्रमुख शहरों में सर्वोच्च न्यायालय की क्षेत्रीय पीठों की स्थापना के भी प्रबल समर्थक रहे हैं और उन्होंने उच्च न्यायालय के न्यायाधीशों की सेवानिवृत्ति की आयु 62 से बढ़ाकर 65 करने की भी मांग की है।

[किरेन रिजिजू का पत्र पढ़ें]

और अधिक पढ़ने के लिए नीचे दिये गए लिंक पर क्लिक करें


Centre has been requesting Chief Justices to consider SC/ST, OBC, minorities, women candidates for judgeship: Kiren Rijiju