गोमांस के लिए गोमाता का उपयोग धार्मिक भावनाओ को आहत करता है: केरल एचसी ने रेहाना फातिमा के खिलाफ सख्त कदम उठाए

फातिमा ने सोशल मीडिया पर गोमाता उलारथु नामक कुकरी शो का एक वीडियो अपलोड किया जिसमे नुस्खा और तैयारी के बारे में बताते हुए वह बार-बार गोमाता के रूप में इस्तेमाल किए जाने वाले मांस का जिक्र करती देखी गई
गोमांस के लिए गोमाता का उपयोग धार्मिक भावनाओ को आहत करता है: केरल एचसी ने रेहाना फातिमा के खिलाफ सख्त कदम उठाए

गोमाता शब्द का इस्तेमाल एक कुकरी शो में मांस के पर्याय के रूप में करने से लाखों हिंदुओं की धार्मिक भावनाओं को आघात पहुंचा जो कि गाय को भगवान का दर्जा देते हैं, केरल उच्च न्यायालय ने सोमवार को उसी के लिए कार्यकर्ता रेहाना फातिमा के खिलाफ सख्त कानून पारित किया।

फातिमा ने सोशल मीडिया पर 'गोमाता उलारथु' नामक कुकरी शो का एक वीडियो अपलोड किया जिसमे नुस्खा और तैयारी के बारे में बताते हुए, वह बार-बार गोमाता के रूप में इस्तेमाल किए जाने वाले मांस का जिक्र करती देखी गई

"शिकायतकर्ता द्वारा उद्धृत ग्रंथों से पता चलता है कि वैदिक काल से, भारत में गाय को देवताओं के रूप में पवित्र माना जाता है। देश भर के कई लाख हिंदुओं ने निश्चित रूप से गोमाता शब्द का उपयोग मांसाहार के लिए एक पर्याय के रूप कुकरी शो में इस्तेमाल किया गया जिससे लाखों हिंदुओं की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंची"

न्यायमूर्ति सुनील थॉमस की एकल न्यायाधीश पीठ ने कहा कि फातिमा का यह कृत्य 2018 में उच्च न्यायालय द्वारा सबरीमाला के भगवान अयप्पा के बारे में अपमानजनक सामग्री के प्रकाशन से संबंधित एक अन्य मामले में उच्च न्यायालय द्वारा लगाई गई जमानत शर्त का उल्लंघन था।

उस मामले में, अदालत ने फातिमा को जमानत देते हुए, निर्देश दिया था कि वह प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक या विज़ुअल मीडिया मेक, किसी भी टिप्पणी को साझा, प्रसारित या साझा न करें, जिसमें किसी भी समुदाय की धार्मिक भावनाओं को प्रभावित करने की प्रवृत्ति हो।

उस मामले में शिकायतकर्ता ने केरल उच्च न्यायालय के समक्ष वर्तमान अर्जी दायर की और इस आधार पर ज़मानत देने के आदेश को वापस लेने की मांग की कि सोशल मीडिया पर उसके द्वारा अपलोड किया गया विवादास्पद वीडियो ज़मानत की शर्त का उल्लंघन था। उनके द्वारा यह तर्क दिया गया था कि फातिमा ने "गोमाता" शब्द का इस्तेमाल जानबूझकर गाय को पवित्र मानने वाले हिंदुओं की धार्मिक भावनाओं को आहत करने के लिए किया था।

अदालत ने याचिकाकर्ता के साथ सहमति व्यक्त की कि "गोमता" शब्द का उपयोग "बुरी तरह से प्रेरित और उद्देश्यपूर्ण तरीके से किया गया था"।

अदालत ने कहा कि “सार्वजनिक रूप से देखने के लिए इस तरह के बेहद आपत्तिजनक वीडियो अपलोड करने से भक्तों का मौलिक अधिकार प्रभावित हो सकता है”

यह कहा कि इस आधार पर जमानत रद्द करने का पर्याप्त कारण था लेकिन इस तरह के कदम का सहारा लेने से बचना चाहिए। इसके बजाय, उन्होने फातिमा को किसी भी सामग्री या टिप्पणियों को प्रकाशित करने, साझा करने, प्रसारित करने के लिए दृश्य या इलेक्ट्रॉनिक मीडिया का उपयोग नहीं करने का आदेश दिया।

कोर्ट ने फातिमा द्वारा बनाए गए वीडियो शीर्षक "गोमथा उलारथु" को सोशल मीडिया से हटाने का भी आदेश दिया।

अदालत ने फातिमा को 3 महीने की अवधि के लिए प्रत्येक सोमवार और शनिवार को सुबह 9 बजे से 10 बजे के बीच संबंधित न्यायिक पुलिस स्टेशन के समक्ष रिपोर्ट करने का निर्देश दिया।

और अधिक पढ़ने के लिए नीचे दिये गए लिंक पर क्लिक करें

Use of "Gomatha" for beef preparation in cookery show likely to hurt religious feelings: Kerala HC passes strictures against Rehana Fathima

No stories found.
Hindi Bar & Bench
hindi.barandbench.com