[MediaOne Ban] राष्ट्रीय सुरक्षा शामिल होने पर सुरक्षा मंजूरी से इनकार करने के कारणो का खुलासा करने की कोई बाध्यता नही: MHA

सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि MediaOne चैनल को सुरक्षा मंजूरी से इनकार करना "खुफिया इनपुट" पर आधारित था।
supreme court and mediaone
supreme court and mediaone

केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को बताया है कि मलयालम समाचार चैनल MediaOne को सुरक्षा मंजूरी से इनकार करना खुफिया सूचनाओं पर आधारित था और केंद्रीय गृह मंत्रालय उन मामलों में इनकार करने के कारणों को साझा करने के लिए बाध्य नहीं है जिनमें राष्ट्रीय सुरक्षा शामिल है [मध्यमम ब्रॉडकास्टिंग लिमिटेड बनाम भारत संघ]।

शीर्ष अदालत के समक्ष दायर एक हलफनामे में, केंद्र सरकार ने कहा है कि नीति के मामले में और राज्य और उसके प्रतिष्ठानों के हित में, एमएचए इस तरह की मंजूरी से इनकार करने के कारणों का खुलासा नहीं करता है।

प्रस्तुत है कि "वर्तमान जैसे मामलों में जहां राष्ट्रीय सुरक्षा से संबंधित मामला शामिल है, याचिकाकर्ता कंपनी प्राकृतिक न्याय के सिद्धांतों के सख्त अनुपालन पर जोर नहीं दे सकती है और प्रतिवादी याचिकाकर्ता-कंपनी को सुरक्षा मंजूरी से इनकार करने के कारणों का खुलासा करने के लिए बाध्य नहीं है।"

यह आगे कहा गया था कि इनकार के कारण पहले ही उच्च न्यायालय और सर्वोच्च न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किए जा चुके थे और यदि उसे फिर से ऐसी रिपोर्ट प्रस्तुत करने के लिए कहा जाता है, तो उसे "सीलबंद लिफाफे में" पेश किया जाएगा।

13 मार्च को, जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़, सूर्यकांत और विक्रम नाथ की पीठ ने आदेश दिया था कि चैनल उसी तरह से संचालन फिर से शुरू कर सकता है जिस तरह से सुरक्षा मंजूरी रद्द करने से पहले इसे संचालित किया जा रहा था।

शीर्ष अदालत के समक्ष MediaOne की अपील ने केरल उच्च न्यायालय की खंडपीठ के फैसले को चुनौती दी है जिसने केंद्र सरकार के प्रतिबंध को बरकरार रखा था।

मुख्य न्यायाधीश एस मणिकुमार और न्यायमूर्ति शाजी पी चाली की खंडपीठ ने एकल-न्यायाधीश के फैसले को बरकरार रखा था, जिसने अपने लाइसेंस को रद्द करने के सरकार के फैसले के खिलाफ चैनल की याचिका को खारिज कर दिया था।

और अधिक पढ़ने के लिए नीचे दिये गए लिंक पर क्लिक करें


[MediaOne Ban] No obligation to disclose reasons for denying security clearance when national security involved: MHA to Supreme Court

Hindi Bar & Bench
hindi.barandbench.com