हम देवी की पूजा करते है लेकिन लड़कियो को वासना की वस्तु मानते है:UP कोर्ट ने नाबालिग से रेप के लिए 2 पुरुषो को मौत की सजा दी

न्यायाधीश ने टिप्पणी की देवी सीता की तरह जिन्हे पवित्रता की परीक्षा पास करनी थी पीड़िता को हर रोज एक समान परीक्षा देनी होगी और आशा व्यक्त की कि वह आत्महत्या जैसे कायरतापूर्ण कार्य का प्रयास नही करेगी
हम देवी की पूजा करते है लेकिन लड़कियो को वासना की वस्तु मानते है:UP कोर्ट ने नाबालिग से रेप के लिए 2 पुरुषो को मौत की सजा दी

उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ की एक अदालत ने बुधवार को दो पुरुषों को एक नाबालिग लड़की के साथ सामूहिक बलात्कार करने के लिए मौत की सजा सुनाई, कि भारतीय समाज अपनी जरूरतों के लिए विभिन्न देवी-देवताओं की पूजा करते हुए अभी भी महिलाओं को आनंद की वस्तु के रूप में देखता है। [राज्य बनाम हलीम और अन्य]।

यौन अपराधों से बच्चों का संरक्षण (POCSO) कोर्ट के जज पंकज कुमार श्रीवास्तव ने अपने आदेश में कहा,

"यह अजीब विडम्बना है कि हमारे भारत देश में शक्ति के रूप में मां दुर्गा की पूजा होती है, विद्या के लिए मां सरस्वती की पूजा होती है, धन के लिए मां लक्ष्मी की पूजा होती है, नदियों को भी हम मां के रूप में दर्जा देते हैं और जिस देश की राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री, राज्यपाल व अन्य उच्च पदो पर आसीन महिलाएं रही हों, उस देश में एक नाबालिग पीड़िता के साथ इस तरह की जघन्य व क्रूरतापूर्वक सामूहिक दुष्कर्म किया जाना पूरे समाज पर एक प्रश्न चिह्न लगाता है।"

जज ने इस बात पर भी अफसोस जताया कि समाज इतना संकीर्ण सोच वाला है कि अपनी आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए इन देवी-देवताओं की पूजा करते हुए, वे अपने आस-पास की देवियों को, महिलाओं के रूप में, भोग की वस्तु के रूप में देखते हैं, और नाबालिग बच्चों को भी उनकी इच्छाओं को पूरा करने के लिए नहीं छोड़ते हैं।

तीन आरोपी व्यक्तियों पर भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) और पॉक्सो अधिनियम के तहत सामूहिक बलात्कार, अपहरण, हत्या के प्रयास और विभिन्न अन्य धाराओं के अपराधों के लिए मामला दर्ज किया गया था।

अभियोजन पक्ष के अनुसार, दिसंबर 2021 में तीनों आरोपियों ने नाबालिग लड़की का अपहरण कर उसे पास की रेलवे लाइन पर ले जाकर उसके साथ सामूहिक बलात्कार किया। कई गंभीर चोटों के कारण वह वहीं बेहोश पड़ी थी।

इसके बाद तीन आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया, जिनमें से एक नाबालिग था।

दो लोगों की मौत की सजा की पुष्टि करते हुए, न्यायाधीश ने सुप्रीम कोर्ट के विभिन्न फैसलों को ध्यान में रखा और माना कि वर्तमान मामला 'दुर्लभ से दुर्लभ' श्रेणी में आता है, क्योंकि पुरुषों ने पीड़ित का चेहरा पूरी तरह से विकृत कर दिया था और अन्य शारीरिक चोटों को जन्म दिया था।

"पीड़िता के साथ अभियुक्तगणों ने न सिर्फ सामूहिक दुष्कर्म किया है अपितु उसको बांयी आंख से अन्धा कर उसका चेहरा भी खराब कर दिया है। जब-जब पीड़िता अपने आपको आइने में देखेगी, तब-तब उसे अपने आप पर इस बात का दुख रहेगा, कि क्यों उसने बेटी के रूप में इस संसार में जन्म लिया। लोग अपने जीवन में एक बार मरते हैं और यह पीड़िता हजारों, लाखों बार मरेगी। "

न्यायाधीश ने यह भी टिप्पणी की कि देवी सीता की तरह, जिन्हें पवित्रता की परीक्षा पास करनी थी, पीड़िता की प्रतिदिन इसी तरह की परीक्षा ली जाएगी। साथ ही जज को उम्मीद थी कि वह इस घटना को भूल जाएंगी और आत्महत्या की ''कायराना'' हरकत करने की कोशिश नहीं करेंगी.

कोर्ट ने कहा, "पीड़िता के भविष्य का कोई ठिकाना नहीं, क्योंकि यह वह देश है, जहां माता सीता को भी अपने पवित्रता को साबित करने के लिए अग्नि की वेदिका से गुजरना पड़ा था। न्यायालय यह उम्मीद करती है कि पीड़िता समय के साथ अपने दुखों को भुलने का प्रयास करेगी और यह जरूर कोशिश करेगी कि वह एक अच्छी जिन्दगी जिये और कभी भी किसी आवेश में आकर कायरों जैसी कोई आत्मघाती कदम उठाने की कोशिश नहीं करेगी।"

न्यायालय ने प्रतापगढ़ के जिलाधिकारी को उत्तर प्रदेश रानी लक्ष्मीबाई महिला सम्मान कोष योजना के तहत नियमानुसार पीड़िता को आर्थिक मुआवजा देने तथा आदेश की तिथि से एक माह के अंदर पीड़िता को आर्थिक मुआवजा दिये जाने की सूचना देने का निर्देश दिया है।

[आदेश पढ़ें]

Attachment
PDF
State_v_Haleem___Ors.pdf
Preview

और अधिक पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें


We worship goddesses but treat women, girls as objects of lust: UP Court awards death penalty to 2 men for gang-rape of minor girl

Hindi Bar & Bench
hindi.barandbench.com