बहन के कहने पर दवाई देने के 5 दिन बाद हुई सुशांत सिंह राजपूत की मौत: रिया चक्रवर्ती ने बॉम्बे हाईकोर्ट से कहा

... प्रियंका, मीतू और डॉ. कुमार के कार्यों की जांच की जानी चाहिए कि वे सुशांत सिंह को फर्जी और गैरकानूनी नुस्खे कैसे दे सकते हैं" चक्रवर्ती ने प्रस्तुत किया।
बहन के कहने पर दवाई देने के 5 दिन बाद हुई सुशांत सिंह राजपूत की मौत: रिया चक्रवर्ती ने बॉम्बे हाईकोर्ट से कहा
Rhea Chakraborty, Bombay HC

रिया चक्रवर्ती ने बॉम्बे हाईकोर्ट में एक जवाब दायर किया है जिसमें कहा गया है कि अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मृत्यु के कुछ दिनों बाद उनकी बहन प्रियंका सिंह से दवाओं के लिए एक पर्चे प्राप्त हुए, जो डॉ. तरुण कुमार द्वारा निर्धारित किए गए थे।

इसलिए चक्रवर्ती ने प्रियंका, मीतू सिंह और डॉ. कुमार के खिलाफ सुशांत सिंह राजपूत की अप्राकृतिक मौत के संबंध में दर्ज एफआईआर को रद्द करने वाली याचिका खारिज को करने की प्रार्थना की। एफआईआर चक्रवर्ती की शिकायत पर दर्ज की गई थी।

अपने जवाब में, चक्रवर्ती ने डॉ. कुमार के साथ, प्रियंका और मीतू सिंह पर आरोप लगाया, जिसमें कथित तौर पर नारकोटिक्स ड्रग्स एंड साइकोट्रोपिक सब्सटेंस एक्ट (एनडीपीएस अधिनियम) में वर्णित सुशांत सिंह राजपूत को कुछ दवाओं को देने के लिए झूठे नुस्खे प्राप्त करने की साजिश रची गई थी।

चक्रवर्ती ने राजपूत और उनके परिवार के साथ तनावपूर्ण गतिशीलता के साथ अपने संबंधों पर विस्तृत प्रस्तुतियाँ दी हैं। उन्होने बताया कि राजपूत का रोग निदान हो गया था और चक्रवर्ती के समर्थन से द्विध्रुवी विकार के लिए उपचार प्राप्त किया था।

8 जून को, हालांकि, यह प्रस्तुत किया गया कि चक्रवर्ती को पता चला कि प्रियंका सिंह ने राजपूत के लिए दवाओं की एक सूची दी थी, जो पहले डॉक्टरों द्वारा निर्धारित नहीं की गई थीं। चक्रवर्ती का कहना है कि उन्होंने राजपूत से कहा कि वे इन दवाओं का सेवन न करें, इस बात को ध्यान में रखते हुए कि उनकी बहन की कोई चिकित्सकीय योग्यता नहीं है। 14 दिन बाद, 14 जून को राजपूत का निधन हो गया।

वह इस बात पर चिंता जताती है कि राजपूत को उनकी मृत्यु के कुछ दिन पहले (डॉ. तरुण कुमार द्वारा) निर्धारित की गई दवाएँ दी गई थीं, जो कि कानून के अनुसार कोई परामर्श नहीं था।

चक्रवर्ती ने अपने जवाब में कहा कि, "प्रियंका, मीतू और डॉ. कुमार के कार्यों की जांच की जानी चाहिए कि वे सुशांत सिंह को फर्जी और गैरकानूनी नुस्खे कैसे प्रदान कर सकते हैं।"

उक्त ईलाज प्राप्त करने के 5 दिन बाद ही सुशांत की मृत्यु हो गई जिसमें उन्हे प्रियंका सिंह और डॉ. कुमार के इशारे पर गैरकानूनी तरीके से मनौवैज्ञानिक पदार्थ निर्धारित किए थे।
रिया चक्रवर्ती

चक्रवर्ती ने कहा कि,

“डॉ. कुमार के साथ प्रियंका और मीतू सिंह के खिलाफ एक मजबूत प्रथम दृष्टया मामला सामने आया है। जांच एक नवजात अवस्था में है और सीबीआई को एफआईआर में आरोपों की जांच का पर्याप्त अवसर दिया जाना चाहिए जो एक गंभीर प्रकृति के हैं।“

चक्रवर्ती ने कहा जिस तरह से दवाएं निर्धारित की गई थीं वह भारतीय चिकित्सा परिषद के नियमों और टेलीमेडिसिन प्रैक्टिस दिशानिर्देशों का उल्लंघन है।

उसने प्रस्तुत किया है कि दर्ज की गई प्राथमिकी उच्चतम न्यायालय के निर्देश के उल्लंघन में नहीं है कि केंद्रीय जांच ब्यूरो को स्वर्गीय सुशांत सिंह की मृत्यु से संबंधित सभी मामलों की जांच करनी चाहिए।

चक्रवर्ती ने कहा कि राजपूत बहनों के कारण सुशांत सिंह के निधन के बाद से वह गुस्से और नफरत का सामना कर रही हैं।

इन तथ्यों को देखते हुए, चक्रवर्ती ने उच्च न्यायालय से आग्रह किया कि एफआईआर को रद्द नहीं करना चाहिए और एफआईआर के खिलाफ याचिका को जुर्माने के साथ खारिज किया जाना चाहिए।

और अधिक पढ़ने के लिए नीचे दिये गए लिंक पर क्लिक करें

Sushant Singh Rajput died 5 days after being prescribed medicines on sister's behest: Rhea Chakraborty to Bombay High Court

No stories found.
Hindi Bar & Bench
hindi.barandbench.com