[सुशांत सिंह राजपूत मामला] बॉम्बे हाईकोर्ट ने एनडीपीएस के आरोपी साहिल शाह को अग्रिम जमानत देने से किया इनकार

न्यायमूर्ति पीडी नाइक ने पाया कि व्हाट्सएप संदेश, गिरफ्तार आरोपियों के बयान और की गई जांच से अपराध में शाह की संलिप्तता का पता चलता है।
[सुशांत सिंह राजपूत मामला] बॉम्बे हाईकोर्ट ने एनडीपीएस के आरोपी साहिल शाह को अग्रिम जमानत देने से किया इनकार
Narcotics Control Bureau, Sushant Singh Rajput

बॉम्बे हाईकोर्ट ने हाल ही में बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के संबंध में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) द्वारा जांच की जा रही नारकोटिक ड्रग्स एंड साइकोट्रोपिक सब्सटेंस (एनडीपीएस) अधिनियम के तहत एक मामले में आरोपी साहिल शाह को अग्रिम जमानत देने से इनकार कर दिया।

न्यायमूर्ति पीडी नाइक ने पाया कि व्हाट्सएप संदेश, गिरफ्तार आरोपियों के बयान और की गई जांच से अपराध में शाह की संलिप्तता का पता चलता है।

जस्टिस नाइक ने शाह की अर्जी खारिज करते हुए कहा, “आवेदक को अग्रिम जमानत देने के लिए दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 438 के तहत शक्तियों का प्रयोग करने के लिए यह एक उपयुक्त मामला नहीं है। इसलिए, आवेदन में राहत देने का कोई मामला नहीं बनता है।“

शाह पर एनडीपीएस अधिनियम की धारा 8 (सी), 27, 27 ए, 28, 29 और 30 के तहत दंडनीय अपराधों का आरोप है। अपराधों में नशीली दवाओं का सेवन और वित्तपोषण और अपराधियों को शरण देना शामिल है।

सह-आरोपी गणेश शेरे और सिद्धार्थ अमीन को पकड़ने के दौरान, एनसीबी ने 310 ग्राम मारिजुआना जब्त किया और संदेह किया कि शाह द्वारा प्रतिबंधित सामग्री की आपूर्ति की गई थी।

सत्र न्यायालय के समक्ष गिरफ्तारी की आशंका जताते हुए, शाह ने विशेष एनडीपीएस न्यायालय, मुंबई का रुख किया। हालांकि, कोर्ट ने 23 अप्रैल, 2021 के एक आदेश के जरिए सुरक्षा देने से इनकार कर दिया।

आदेश से क्षुब्ध शाह ने उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया।

शाह की ओर से पेश हुए अधिवक्ता पीएस मल्ही और अमनदीप सिंह ने कहा कि अपराध में शाह की संलिप्तता दिखाने के लिए कोई पुख्ता सबूत नहीं है।

उन्होने कहा, "सह-आरोपी के पास से कथित रूप से बरामद की गई प्रतिबंधित सामग्री कम मात्रा में थी। अभियोजन पक्ष द्वारा भरोसा किया गया व्हाट्सएप चैट आवेदक की संलिप्तता को स्थापित नहीं करता है।"

उन्होंने यह भी कहा कि शाह को एनसीबी द्वारा तब तक कोई सम्मन जारी नहीं किया गया जब तक कि उन्होंने अग्रिम जमानत के लिए अदालत का दरवाजा नहीं खटखटाया।

किसी भी मामले में, वकीलों ने तर्क दिया, शाह को एनसीबी द्वारा जांच किए जा रहे किसी अन्य मामले में कभी भी समन जारी नहीं किया गया था।

एनसीबी की ओर से पेश अधिवक्ता श्रीराम शिरसत ने कहा कि अपराध में शाह की संलिप्तता दिखाने के लिए पुख्ता सबूत हैं।

उन्होंने यह भी बताया कि राजपूत की मौत के संबंध में एनडीपीएस अधिनियम के तहत अपराधों से संबंधित एनसीबी के साथ दर्ज अन्य दो शिकायतों में भी शाह के नाम का खुलासा किया गया था।

एनसीबी ने शाह के आवेदन का विरोध करते हुए कहा कि शाह कभी भी पूछताछ के लिए उपलब्ध नहीं थे और गिरफ्तारी से बच रहे थे।

पक्षों की दलीलें सुनने और दस्तावेजों की जांच करने पर न्यायमूर्ति नाइक ने शाह के आवेदन को खारिज कर दिया।

और अधिक पढ़ने के लिए नीचे दिये गए लिंक पर क्लिक करें

[Sushant Singh Rajput case] Bombay High Court refuses anticipatory bail to NDPS accused Sahil Shah

Related Stories

No stories found.