[एमिशन चीट डिवाइसेस] सुप्रीम कोर्ट ने स्कोडा वोक्सवैगन इंडिया की एफआईआर को रद्द करने वाली याचिका खारिज की

वोक्सवैगन ने इलाहाबाद HC आदेश के खिलाफ अपील की जिसमे अपने वाहनो मे धोखा देने वाले उपकरणो को स्थापित करने के लिए 10 जुलाई को नोएडा में दर्ज FIR को रद्द करने के लिए वोक्सवैगन की याचिका को खारिज किया
[एमिशन चीट डिवाइसेस] सुप्रीम कोर्ट ने स्कोडा वोक्सवैगन इंडिया की एफआईआर को रद्द करने वाली याचिका खारिज की
Skoda in trouble?

फैसला भारत के मुख्य न्यायाधीश एसए बोबडे की अध्यक्षता वाली खंडपीठ ने सुनाया।

हालांकि, उच्च न्यायालय ने निर्देश दिया था कि कंपनी के अधिकारी को पुलिस रिपोर्ट प्रस्तुत करने तक मामले में गिरफ्तार नहीं किया जाएगा इस स्थिति के अधीन है कि वह जांच में सहयोग करेगा और जांच में सहायता करने के लिए कहा जाएगा।

वोक्सवैगन इंडिया की ओर से पेश वरिष्ठ वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने सुप्रीम कोर्ट में प्रस्तुत किया था कि नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने धोखा देने वाले उपकरणों पर निर्माता पर जुर्माना लगाते हुए सुप्रीम कोर्ट द्वारा 2019 में पहले ही रोक दिया था और नई प्राथमिकी भी आधारित है

एनजीटी ने पिछले साल 7 मार्च को लगाए गए हर्जाने और मुआवजे की राशि बढ़ाकर कंपनी के खिलाफ 500 करोड़ रुपये की राशि पाई थी, जिसमें पाया गया था कि इसके वाहनों में प्रयोगशाला परीक्षणों के दौरान डिवाइस चीट लगाया गया था, जो कम उत्सर्जन दिखाता था।

वोक्सवैगन इंडिया ने आगे तर्क दिया कि समान शिकायतों के साथ कई एफआईआर सामान्य दावों पर आधारित हैं। सिंघवी ने यह भी दावा किया कि कंपनी को NGT द्वारा गठित एक अन्य समिति द्वारा 2015 में दायर की गई इसी तरह की एक अन्य एफआईआर में बरी किया गया था।

सिंघवी ने कहा कि एनजीटी में आरोप लगाया गया था कि वोक्सवैगन कारों के इंजनों में धोखा देने वाले उपकरण हैं और इससे पर्यावरण को नुकसान पहुंचता है और एफआईआर में भारत और विदेश में इसके अधिकारियों के नाम हैं।

और अधिक पढ़ने के लिए नीचे दिये गए लिंक पर क्लिक करें

[Emission Cheat Devices] Supreme Court dismisses plea by Skoda Volkswagen India to quash FIR

No stories found.
Hindi Bar & Bench
hindi.barandbench.com