[ब्रेकिंग] कर्नाटक HC द्वारा मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के खिलाफ भूमि अवनति मामले को बहाल करने के आदेश पर SC ने रोक लगाई

सत्र न्यायालय द्वारा 2016 में कार्यवाही को पहले ही खत्म कर दिया गया था, जिसके बाद उसी की बहाली के लिए उच्च न्यायालय में याचिका दायर की गई थी जिसने 17 मार्च को इसकी अनुमति दी थी।
[ब्रेकिंग] कर्नाटक HC द्वारा मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के खिलाफ भूमि अवनति मामले को बहाल करने के आदेश पर SC ने रोक लगाई
BS Yediyurappa and Supreme Court

उच्चतम न्यायालय ने सोमवार को कर्नाटक उच्च न्यायालय के 17 मार्च के आदेश पर रोक लगा दी जिसमें कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के खिलाफ एक भूमि निरूपण मामले को बहाल किया गया था।

मुख्य न्यायाधीश एसए बोबडे और न्यायमूर्ति ए एस बोपन्ना और वी रामासुब्रमण्यम की खंडपीठ ने येदियुरप्पा की याचिका पर नोटिस जारी किए जिसमे उच्च न्यायालय के आदेश को चुनौती दी गयी थी।

मुख्यमंत्री का प्रतिनिधित्व करने वाले वरिष्ठ वकील केवी विश्वनाथन ने प्रस्तुत किया “इसके लिए अंतरिम आदेश की जरूरत है। ट्रायल कोर्ट मामले को आगे बढ़ाएगा।“

कोर्ट ने अनुरोध मंजूर कर लिया।

यह मामला 2011 की एक शिकायत से जुड़ा है जिसमें कहा गया है कि येदियुरप्पा और एक अन्य मंत्री कट्टा सुब्रमण्य नायडू ने अपने पदों का दुरुपयोग करते हुए उत्तरी बेंगलुरु में 24 एकड़ से अधिक की सरकारी-अधिग्रहित भूमि को निजी व्यक्तियों को जारी करने की अनुमति दे दी, जिससे सौदेबाजी में राज्य को नुकसान हुआ।

2016 में सत्र अदालत द्वारा कार्यवाही को खत्म कर दिया गया था जिसके बाद उच्च न्यायालय के समक्ष उसी की बहाली के लिए याचिका दायर की गई थी।

मामले में मूल शिकायतकर्ता कार्यकर्ता आलम पाशा द्वारा बहाली के लिए याचिका दायर की गई थी।

पाशा ने उच्च न्यायालय के समक्ष दलील दी कि सत्र अदालत ने 2016 में पुलिस द्वारा दायर एक क्लोजर रिपोर्ट का हवाला देकर गलत तरीके से खत्म कर दिया था।

जांच के बाद लोकायुक्त पुलिस ने मामले में नामजद नौ लोगों के खिलाफ मामले को खत्म करने के लिए अंतिम रिपोर्ट दाखिल की थी कि उनके खिलाफ कोई सबूत एकत्र नहीं किया जा सकता था, लेकिन येदियुरप्पा और नायडू के खिलाफ आरोप पत्र दायर किया गया था।

पुलिस की चार्जशीट के बावजूद, सेशन कोर्ट ने इस मामले में नौ अन्य लोगों के खिलाफ दायर क्लोजर रिपोर्ट के आधार पर पूरे मामले को छोड़ दिया, लेकिन पाशा ने उच्च न्यायालय के समक्ष इसका विरोध किया।

और अधिक पढ़ने के लिए नीचे दिये गए लिंक पर क्लिक करें

[BREAKING] Karnataka High Court order reinstating land denotification case against Chief Minister BS Yediyurappa stayed by Supreme Court

No stories found.
Hindi Bar & Bench
hindi.barandbench.com