मद्रास हाईकोर्ट ने सुप्रीम कोर्ट आदेश के बाद टीएन मंत्रियो की बर्खास्तगी के खिलाफ स्व: संज्ञान वाली रिविजन सुनवाई स्थगित की

न्यायमूर्ति एन आनंद वेंकटेश ने कहा कि वह सुनवाई स्थगित कर रहे हैं ताकि उच्च न्यायालय उच्चतम न्यायालय के सोमवार के आदेश का अध्ययन कर सके।
Justice Anand Venkatesh, Madras High Court
Justice Anand Venkatesh, Madras High Court

मद्रास उच्च न्यायालय ने तमिलनाडु के राजस्व और आपदा प्रबंधन मंत्री केकेएसएसआर रामचंद्रन और अन्य के खिलाफ स्वत: संज्ञान संशोधन मामले में सुनवाई बुधवार 7 फरवरी तक के लिए स्थगित कर दी।

न्यायमूर्ति एन आनंद वेंकटेश, जिन्होंने केकेएसएसआर और तमिलनाडु के कई अन्य मंत्रियों के खिलाफ पिछले साल अगस्त में स्वत: संज्ञान कार्यवाही शुरू की थी, ने अदालत को सूचित किए जाने के बाद सुनवाई स्थगित कर दी कि सुप्रीम कोर्ट ने मद्रास उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ केकेएसएसआर द्वारा दायर विशेष अनुमति याचिका में अंतिम आदेश पारित किया था।

सुप्रीम कोर्ट ने मद्रास उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश को निर्देश दिया कि या तो वह स्वत: संज्ञान मामलों की सुनवाई करें या इसकी सुनवाई के लिए दूसरी पीठ नियुक्त करें, न्यायमूर्ति वेंकटेश ने कहा कि वह सुनवाई स्थगित कर रहे हैं ताकि उच्च न्यायालय सुप्रीम कोर्ट के आदेश का अध्ययन कर सके।

पीठ ने कहा, ''इस अदालत को सूचित किया जाता है कि उच्चतम न्यायालय ने इस मामले में दायर एसएलपी में अंतिम आदेश पारित किया है। इन सभी मामलों को परसों पर पोस्ट करें ताकि यह न्यायालय शीर्ष अदालत के आदेश का अध्ययन कर सके और आगे के आदेश पारित कर सके।"

न्यायमूर्ति वेंकटेश ने पिछले साल 23 अगस्त को आय से अधिक संपत्ति के मामलों में केकेएसएसआर समेत तमिलनाडु के मंत्रियों को आरोप मुक्त करने के राज्य की कई विशेष अदालतों के आदेशों के खिलाफ स्वत: संज्ञान लेते हुए पुनरीक्षण कार्यवाही शुरू की थी।

उस समय, न्यायमूर्ति वेंकटेश ने टिप्पणी की थी कि विशेष अदालतों में कुछ बहुत " सड़ा " हुआ प्रतीत होता है और ऐसा लगता है कि उन्होंने इन आदेशों की जांच करने और स्वत: संज्ञान लेने की कार्यवाही शुरू करके " कीड़े का एक कैन खोल दिया है"

सोमवार को अदालत केकेएसएसआर और मानव संसाधन प्रबंधन राज्य मंत्री थंगम थेनारासु के खिलाफ स्वत: संज्ञान मामलों की सुनवाई करने वाली थी।

और अधिक पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें


Madras High Court adjourns suo motu revision hearing against discharge of TN ministers after Supreme Court’s order

Related Stories

No stories found.
Hindi Bar & Bench
hindi.barandbench.com