NLSIU के वीसी को सचिव-कोषाध्यक्ष पद से हटाया, कोई अन्य सदस्य विश्वविद्यालय स्वतंत्र परीक्षा करने की योजना नही बनाता है

यह भी समाधान किया गया है कि एनएलयू कंसोर्टियम के सचिवालय को एनएलएसआईयू बैंगलोर से नेशनल एकेडमी ऑफ लीगल स्टडीज एंड रिसर्च, (एनएएलएसएआर) में स्थानांतरित किया जाएगा।
NLSIU के वीसी को सचिव-कोषाध्यक्ष पद से हटाया, कोई अन्य सदस्य विश्वविद्यालय स्वतंत्र परीक्षा करने की योजना नही बनाता है
NLU Consortium

नेशनल लॉ स्कूल ऑफ इंडिया यूनिवर्सिटी (एनएलएसआईयू) द्वारा इस वर्ष अपने स्वयं कि प्रवेश परीक्षा आयोजित करने के निर्णय से उत्पन्न गिरावट के मद्देनजर, कंसोर्टियम ऑफ नेशनल लॉ यूनिवर्सिटीज ने एनएलएसआईयू के कुलपति प्रोफेसर सुधीर कृष्णस्वामी को सचिव-ट्रेजर ऑफ कंसोर्टियम के पद से हटाने का संकल्प लिया है।

यह भी हल किया गया है कि एनएलयू कंसोर्टियम के सचिवालय को एनएलएसआईयू बैंगलोर से नेशनल एकेडमी ऑफ लीगल स्टडीज एंड रिसर्च, (एनएएलएसएआर) में स्थानांतरित कर दिया जाएगा। एनएएलएसएआर के कुलपति, प्रो फैजान मुस्तफा अंतरिम में कंसोर्टियम के प्रशासनिक और सचिवीय कार्यों का निर्वहन करेंगे। एनएलयू ओडिशा के कुलपति प्रो एसकेडी राव सीएलएटी कंसोर्टियम के कोषाध्यक्ष के वित्तीय कार्यों का निर्वहन करेंगे।

प्रो॰ मुस्तफा एनएलयू कंसोर्टियम वेबसाइट का नियंत्रण तुरंत संभाल लेंगे।

"न केवल हजारों सीएलएटी 2020 के अभ्यर्थियों की स्थिति को स्पष्ट करने के लिए, बल्कि कंसोर्टियम के सुचारू कामकाज को सुनिश्चित करने के लिए" यह निर्णय कल आयोजित एक बैठक में लिया गया था।

कंसोर्टियम ने कहा है कि प्रोफेसर कृष्णास्वामी ने बार एंड बेंच के साथ एक हालिया साक्षात्कार के दौरान व्यक्त किया था कि कंसोर्टियम के अन्य विश्वविद्यालय भी सीएलएटी 2020 के संचालन में देरी से कठिन दबाव महसूस कर रहे थे, "विशुद्ध रूप से उनका व्यक्तिगत विचार" था। कंसोर्टियम द्वारा जारी एक विज्ञप्ति मे कहा गया कि,

“एनएलएसआईयू, बैंगलोर को छोड़कर, कोई भी अन्य लॉ यूनिवर्सिटी स्वतंत्र रूप से अपना परीक्षण नहीं करने जा रही है जैसा कि सोशल मीडिया में गलती से रिपोर्ट किया गया था। बार और बेंच में प्रोफेसर सुधीर कृष्णस्वामी, माननीय कुलपति, एनएलएसआईयू, बैंगलोर का साक्षात्कार विशुद्ध रूप से उनकी निजी राय थी। कोई अन्य सदस्य विश्वविद्यालय न तो कंसोर्टियम में कठिन दबाव महसूस कर रहा है और न ही इसके लिए कोई स्वतंत्र प्रवेश परीक्षा आयोजित करने की कोई योजना है।"

कंसोर्टियम ने आगे कहा कि एनएलएसआईयू के कुलपति का कृत्य उसके उप-कानूनों और उद्देश्यों का अनादर है। इस प्रकाश में, कंसोर्टियम ने प्रो-कृष्णास्वामी को सचिव-कोषाध्यक्ष के रूप में अपने कर्तव्यों से हटाने का निर्णय लिया।

"चूंकि एनएलएसआईयू कुलपति, कंसोर्टियम के सचिव- कोषाध्यक्ष हैं, कंसोर्टियम के इन कार्यों और एनएलएसआईयू के लिए स्वतंत्र परीक्षा आयोजित करने के उनके निर्णय के बीच हितों के स्पष्ट संघर्ष के मद्देनजर, कंसोर्टियम ने सर्वसम्मति से तत्काल प्रभाव से उन्हे कंसोर्टियम के सचिव-कोषाध्यक्ष के रूप में अपने कार्यों से हटाने का संकल्प लिया। उन्हें सलाह दी जाती है कि इन कार्यों का निर्वहन न करें और किसी भी तरीके से कंसोर्टियम के लिए न बोलें और न ही किसी कार्यवाही में कंसोर्टियम का प्रतिनिधित्व करें जब तक कि इस मामले में गवर्निंग बॉडी द्वारा कोई निर्णय नहीं लिया जाता है।"

एनएलयू कंसोर्टियम की कार्यकारी परिषद और आम सभा की विशेष बैठकें "इस तरह की घटनाओं को संबोधित करने के लिए उप-कानून और एमओयू में आवश्यक संशोधनों पर विचार करने के लिए" 8 सितंबर, मंगलवार को आयोजित की जाएंगी।

कंसोर्टियम ने आगे संकल्प लिया है कि सीएलएटी 2020 - 28 सितंबर के आयोजन के लिए निर्धारित तिथि का कड़ाई से पालन किया जाएगा।

एनएलएसआईयू के इस शैक्षणिक वर्ष के पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए एक अलग प्रवेश परीक्षा आयोजित करने के निर्णय से कानूनी शिक्षा बिरादरी को गहरा सदमा पहुंचा है।

यह कदम ऐसे समय में आया है जब कॉमन लॉ एडमिशन टेस्ट (सीएलएटी) का संचालन कोविड-19 महामारी के कारण अनिश्चितता कि स्थति मे है। सीएलएटी, जो अब 28 सितंबर के लिए निर्धारित है, को पिछले चार अवसरों पर स्थगित कर दिया गया था।

और अधिक पढ़ने के लिए नीचे दिये गए लिंक पर क्लिक करें

[Breaking] NLSIU VC divested of Secretary-Treasurer post, no other member University plans to conduct independent test: NLU Consortium

No stories found.
Hindi Bar & Bench
hindi.barandbench.com