[सिमरजीत सिंह बैंस की दलील] "क्या आपने उनका रवैया देखा है? राज्य पुलिस के दुरुपयोग का पक्षकार नहीं हो सकता:" सुप्रीम कोर्ट

अदालत ने बैंस के खिलाफ बलात्कार का मामला दर्ज करने वाली महिला के खिलाफ सभी कार्यवाही पर रोक लगा दी। इसने बैंस को एक सप्ताह के लिए अंतरिम संरक्षण भी दिया।
[सिमरजीत सिंह बैंस की दलील] "क्या आपने उनका रवैया देखा है? राज्य पुलिस के दुरुपयोग का पक्षकार नहीं हो सकता:" सुप्रीम कोर्ट

simarjeet singh bains and supreme court

सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को पंजाब विधानसभा सदस्य (एमएलए) और लोक इंसाफ पार्टी के नेता सिमरजीत सिंह बैंस पर उनके खिलाफ बलात्कार के एक मामले में उनके आचरण पर आपत्ति जताई। [सिमरजीत सिंह बैंस बनाम पंजाब राज्य]।

भारत के मुख्य न्यायाधीश एनवी रमना की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा कि बैंस के खिलाफ बलात्कार का मामला दर्ज होने के बाद, उन्होंने शिकायतकर्ता के खिलाफ कई मामले दर्ज किए।

कोर्ट ने बैंस की ओर से पेश हुए वरिष्ठ वकील मुकुल रोहतगी को बताया, "क्या आपने अपने मुवक्किल का रवैया देखा है? वह दो बार विधायक है और वह इस तरह से व्यवहार करता है। उसने उस महिला के खिलाफ कितने मामले दर्ज किए और अब वह अग्रिम जमानत चाहता है और वह चाहता है कि महिला जेल जाए। राज्य पुलिस तंत्र के इस तरह के दुरुपयोग के पक्षकार नहीं हो सकते।"

कोर्ट ने हालांकि कहा कि वह शिकायतकर्ता महिला की रक्षा करेगी।

इसने पंजाब के महाधिवक्ता को भी मामले में पेश होने का आदेश दिया।

कोर्ट ने पंजाब सरकार से कहा, "हम चाहते हैं कि महाधिवक्ता इस मामले में पेश हों। इस मामले में काउंटर दाखिल करें।"

बेंच, जिसमें जस्टिस एएस बोपन्ना और हेमा कोहली भी शामिल थे, ने आदेश दिया, "हम पंजाब को जवाब दाखिल करने के लिए एक सप्ताह का समय देते हैं। एक हफ्ते तक सिमरजीत सिंह बैंस को गिरफ्तार न करें। शिकायतकर्ता महिला के खिलाफ चारों केसों पर रोक लगा दें। एक सप्ताह के बाद सूचीबद्द करें।"

और अधिक पढ़ने के लिए नीचे दिये गए लिंक पर क्लिक करें


[Simarjeet Singh Bains plea] "Have you seen his attitude? State cannot be party to misuse of police:" Supreme Court

Hindi Bar & Bench
hindi.barandbench.com