[ब्रेकिंग] सुप्रीम कोर्ट ने MediaOne न्यूज़ चैनल को प्रसारण फिर से शुरू करने की अनुमति दी, केंद्र सरकार के प्रतिबंध पर रोक

कोर्ट ने कहा, "याचिकाकर्ता को उसी आधार पर MediaOne चलाने की अनुमति दी जाए, जिस चैनल को सुरक्षा मंजूरी रद्द किए जाने से पहले चलाया जा रहा था।"
[ब्रेकिंग] सुप्रीम कोर्ट ने MediaOne न्यूज़ चैनल को प्रसारण फिर से शुरू करने की अनुमति दी, केंद्र सरकार के प्रतिबंध पर रोक

सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को मलयालम समाचार चैनल MediaOne को अंतरिम राहत प्रदान की, चैनल की सुरक्षा मंजूरी को रद्द करने के केंद्र सरकार के फैसले पर रोक लगा दी [मध्यम ब्रॉडकास्टिंग लिमिटेड बनाम यूनियन ऑफ इंडिया]।

जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़, सूर्यकांत और जस्टिस विक्रम नाथ की बेंच ने भी केंद्र सरकार को इस मामले में अपना जवाबी हलफनामा दाखिल करने का निर्देश दिया।

कोर्ट ने कहा, "हम आदेश देते हैं और निर्देश देते हैं कि मध्यमान ब्रॉडकास्टिंग लिमिटेड को सुरक्षा मंजूरी रद्द करने के केंद्र सरकार के आदेश पर रोक लगा दी जाए। याचिकाकर्ता को उसी आधार पर MediaOne चलाने की अनुमति दी जाए, जिस पर सुरक्षा मंजूरी रद्द होने से पहले चैनल चलाया जा रहा था।"

चैनल की ओर से पेश वरिष्ठ वकील दुष्यंत दवे ने कहा कि चैनल ने 11 साल तक काम किया।

उन्होंने कहा "मेरा लाइसेंस 10 साल के लिए था। मेरी वास्तविक अवधि समाप्त होने के 2 महीने बाद, उन्होंने मुझे जारी रखने की अनुमति दी। उन्होंने मुझे 2019 में 5 साल की अवधि के लिए डाउनलिंकिंग की अनुमति दी।"

उन्होंने आगे तर्क दिया कि लाइसेंस के नवीनीकरण के लिए सुरक्षा मंजूरी की आवश्यकता नहीं है।

दवे ने कहा, "अगर इसे स्वीकार कर लिया जाता है तो कोई मीडिया, प्रकाशन या चैनल नहीं सहेजा जाएगा। कल सभी को बंद किया जा सकता है।"

दवे ने यह भी बताया कि कैसे सरकार ने प्रासंगिक फाइलें नहीं पेश कीं, जिनमें चैनल के खिलाफ प्रतिकूल इनपुट होने का दावा किया गया था

कोर्ट ने हालांकि कहा कि कोई भी अदालत के फैसले की आलोचना करने के लिए स्वतंत्र है।

हाल ही में, एक अन्य मीडिया सेवा कंपनी, मीडियागुरु, ने सूचना और प्रसारण मंत्रालय द्वारा उस पर बताए गए कारण बताओ को चुनौती देते हुए दिल्ली उच्च न्यायालय का रुख किया।

और अधिक पढ़ने के लिए नीचे दिये गए लिंक पर क्लिक करें


[BREAKING] Supreme Court allows MediaOne news channel to resume broadcast, stays Central govt. ban