[वर्चुअल सुनवाई] मोबाइल फोन के माध्यम से पेश होने वाले वकीलों पर प्रतिबंध लगाना पड़ सकता है: सीजेआई एनवी रमना

शीर्ष अदालत की पहली पीठ ने व्यक्त किया कि कैसे दस मामलों को दिन के लिए स्थगित करना पड़ा क्योंकि न्यायाधीश मोबाइल फोन के माध्यम से अधिवक्ताओं को सुन या देख नहीं सकते थे।
[वर्चुअल सुनवाई] मोबाइल फोन के माध्यम से पेश होने वाले वकीलों पर प्रतिबंध लगाना पड़ सकता है: सीजेआई एनवी रमना

CJI NV Ramana

भारत के मुख्य न्यायाधीश (CJI) एनवी रमना की अध्यक्षता वाली सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने सोमवार को अपने मोबाइल फोन के माध्यम से आभासी सुनवाई के लिए उपस्थित होने वाले अधिवक्ताओं पर अपनी निराशा व्यक्त की।

शीर्ष अदालत की पहली पीठ ने व्यक्त किया कि कैसे दस मामलों को दिन के लिए स्थगित करना पड़ा क्योंकि न्यायाधीश मोबाइल फोन के माध्यम से अधिवक्ताओं को सुन या देख नहीं सकते थे। बेंच में मौजूद जस्टिस हिमा कोहली ने कहा कि जजों के पास इस तरह से मामलों की सुनवाई करने की ताकत नहीं है।

ऐसे ही एक उदाहरण के दौरान बेंच ने कहा,

"वकील अपने मोबाइल फोन से पेश हो रहे हैं और दिखाई नहीं दे रहे हैं। हमें इस मोबाइल बिजनीस पर प्रतिबंध लगाना पड़ सकता है ... श्रीमान अधिवक्ता, अब आप सर्वोच्च न्यायालय के समक्ष प्रेक्टिस कर रहे हैं और नियमित रूप से पेश होते हैं। क्या आप बहस करने के लिए डेस्कटॉप नहीं रख सकते हैं?"

एक अन्य मामले में, CJI रमना ने वरिष्ठ अधिवक्ता संजय हेगड़े से पूछा कि क्या वह मोबाइल फोन का उपयोग करके बहस कर रहे हैं।

जब हेगड़े ने जवाब दिया कि उनके पास तीन स्क्रीन हैं, तो कोर्ट ने कहा,

"श्री हेगड़े, कृपया इसे देखें। हमारे पास इस तरह के मामलों को सुनने की कोई ऊर्जा नहीं है। कृपया एक प्रणाली तैयार करें जिससे हम आपको सुन सकें। 10 मामले इस तरह खत्म हो गए हैं और हम चिल्ला रहे हैं।"

और अधिक पढ़ने के लिए नीचे दिये गए लिंक पर क्लिक करें


[Virtual Hearings] May have to ban lawyers appearing through mobile phones: CJI NV Ramana

Hindi Bar & Bench
hindi.barandbench.com