मीडिया के डर से न्यायाधीशों का प्रदर्शन प्रभावित होता है; दबाव झेलने वाले जजों की जरूरत : सेवानिवृत्त जस्टिस आर बसंत

न्यायमूर्ति बसंत 18 अक्टूबर को इंडिया हैबिटेट सेंटर (आईएचसी), नई दिल्ली मे न्यायमूर्ति एस रवींद्र भट के सम्मान मे उनके परिवार और दोस्तो द्वारा आयोजित "न्याय पर बातचीत" नामक एक कार्यक्रम में बोल रहे थे
Justice R Basant
Justice R Basant

वरिष्ठ अधिवक्ता और केरल उच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश आर बसंत ने हाल ही में कहा कि मीडिया का डर आज के समय में एक महत्वपूर्ण कारक है जो न्यायाधीशों के प्रदर्शन को प्रभावित करता है।

न्यायाधीशों द्वारा बिना किसी डर या पक्षपात के कर्तव्य निभाने की ली गई शपथ का जिक्र करते हुए न्यायमूर्ति बसंत ने कहा,

"मीडिया का डर एक न्यायाधीश के रूप में आपके प्रदर्शन को प्रभावित करने वाला एक बहुत ही महत्वपूर्ण आयाम है"।

उन्होंने कहा, मीडिया प्रचार हर न्यायाधीश के लिए एक व्यावसायिक खतरा है।

न्यायमूर्ति बसंत, जो वर्तमान में सुप्रीम कोर्ट में वकालत करते हैं, ने कहा कि टेलीविजन चैनल अक्सर मामले में फैसला सुनाए जाने से पहले ही किसी कानूनी विषय पर चर्चा शुरू कर देते हैं।

उन्होंने कहा “आज एक फैसला सुनाया गया है, और जब तक आप अदालत से बाहर होंगे, उन्होंने उस पर चर्चा शुरू कर दी होगी। यह एक व्यावसायिक ख़तरा है।”

न्यायमूर्ति बसंत नई दिल्ली में इंडिया इंडिया हैबिटेट सेंटर (आईएचसी) में न्यायमूर्ति एस रवींद्र भट के सम्मान में उनके परिवार, दोस्तों सहित पूर्व और वर्तमान कानून क्लर्कों द्वारा आयोजित "न्याय पर बातचीत" नामक एक संवाद में बोल रहे थे।

संवाद में जस्टिस यूयू ललित, मुक्ता गुप्ता, एस मुरलीधर और बदर अहमद भी शामिल थे और इसका संचालन वरिष्ठ अधिवक्ता राजू रामचंद्रन और अधिवक्ता मालविका प्रसाद ने किया।

न्यायमूर्ति बसंत ने कहा कि "कठोर न्यायाधीशों" की आवश्यकता है जो सोशल मीडिया सहित मीडिया द्वारा बनाए गए दबाव का सामना कर सकें।

उन्होंने याद किया कि जब वह 1988 की शुरुआत में न्यायपालिका में शामिल हुए थे, तो उन्होंने उस तरह के आरोपों की कल्पना नहीं की थी जो अब भारत के मुख्य न्यायाधीशों के खिलाफ भी लगाए जा रहे हैं, तब "एक साधारण जूनियर डिवीजन जज" के खिलाफ भी नहीं लगाए जा सकते थे।

न्यायाधीशों और उनके निर्णयों के बारे में कही गई बातों को नजरअंदाज करने की क्षमता पर जोर देते हुए न्यायमूर्ति बसंत ने कहा कि जवाबदेही का मतलब मीडिया का डर नहीं है।

और अधिक पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें


Fear of media affects performance of judges; need judges who can withstand pressure: Retired Justice R Basant

Hindi Bar & Bench
hindi.barandbench.com