[ब्रेकिंग] केरल उच्च न्यायालय ने देशद्रोह मामले में लक्षद्वीप की फिल्म निर्माता आयशा सुल्ताना को अग्रिम जमानत दी

अदालत ने कहा कि उनके बयान में ऐसा कोई स्पष्ट संकेत नहीं है जो राष्ट्रीय हित के लिए हानिकारक आरोप या बयानबाजी के समान हो।
[ब्रेकिंग] केरल उच्च न्यायालय ने देशद्रोह मामले में लक्षद्वीप की फिल्म निर्माता आयशा सुल्ताना को अग्रिम जमानत दी
Aisha Sultana and Kerala High court

केरल उच्च न्यायालय ने शुक्रवार को लक्षद्वीप की एक फिल्म निर्माता आयशा सुल्ताना के खिलाफ दर्ज देशद्रोह मामले में अग्रिम जमानत दे दी।

यह आदेश एकल न्यायाधीश न्यायमूर्ति अशोक मेनन ने पारित किया था।

अदालत ने कहा, "उनके बयान में कोई स्पष्ट संकेत नहीं है, जो राष्ट्रीय हित के लिए हानिकारक आरोप या दावे के समान है, न ही यह व्यक्तियों के किसी अन्य समूह के खिलाफ व्यक्तियों के किसी वर्ग का प्रचार करता है।"

इस महीने की शुरुआत में भारतीय दंड संहिता की धारा 124ए के तहत लक्षद्वीप पुलिस द्वारा सुल्ताना के खिलाफ देशद्रोह का प्राथमिकी दर्ज किए जाने के बाद सुल्ताना ने अग्रिम जमानत के लिए उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था।

सुल्ताना की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता पी विजयभानु, केंद्र सरकार की ओर से स्थायी वकील एस मनु ने पेश हुए।

अदालत ने 17 जून को उसे एक सप्ताह के लिए गिरफ्तारी से अंतरिम सुरक्षा प्रदान करते हुए निर्देश दिया था कि अगर पूछताछ के बाद उसे गिरफ्तार किया जाता है, तो उसे अंतरिम अग्रिम जमानत पर रिहा किया जाना चाहिए।

अदालत ने फैसला सुरक्षित रखते हुए सुल्ताना को जांच में सहयोग करने और आपराधिक प्रक्रिया संहिता की धारा 41ए के तहत पूछताछ के लिए लक्षद्वीप पुलिस के समक्ष पेश होने का निर्देश दिया।

हालांकि, कल लक्षद्वीप प्रशासन ने उच्च न्यायालय में एक आवेदन दायर कर आरोप लगाया कि फिल्म निर्माता ने अदालत के पहले के अंतरिम संरक्षण का दुरुपयोग किया है और द्वीपों पर COVID-19 प्रोटोकॉल को तोड़ा है।

प्रशासन का मानना ​​था कि ये घटनाक्रम जमानत आवेदन पर निर्णय लेने के लिए प्रासंगिक हैं और इसलिए अदालत में इस आशय के दस्तावेज प्रस्तुत किए।

और अधिक पढ़ने के लिए नीचे दिये गए लिंक पर क्लिक करें


[BREAKING] Kerala High Court grants anticipatory bail to Lakshadweep filmmaker Aisha Sultana in sedition case

Related Stories

No stories found.