केंद्र ने SC को बताया: डिजिटल डिवाइड COVID टीकाकरण तक पहुंच के लिए एक बाधा नही है; निजी अस्पतालों की भागीदारी वांछनीय

सरकार ने रेखांकित किया, "टीकाकरण के लिए वॉक-इन-साइट पंजीकरण सभी के लिए स्वीकार्य है और टीकाकरण तक पहुंच के लिए डिजिटल डिवाइड कोई बाधा नहीं है।"
केंद्र ने SC को बताया: डिजिटल डिवाइड COVID टीकाकरण तक पहुंच के लिए एक बाधा नही है; निजी अस्पतालों की भागीदारी वांछनीय

केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से कहा है कि डिजिटल डिवाइड COVID-19 के खिलाफ टीका लगवाने में कोई बाधा नहीं होगी।

शीर्ष अदालत के समक्ष दायर एक हलफनामे में, केंद्र सरकार का कहना है कि यदि कोई व्यक्ति इंटरनेट या डिजिटल डिवाइस का उपयोग नहीं करता है या स्व-पंजीकरण नहीं करना चाहता है, लेकिन टीकाकरण प्राप्त करना चाहता है, तो वह निकटतम टीकाकरण केंद्र पर जा सकता है जहां स्वास्थ्य कार्यकर्ता केंद्र का उसे को-विन प्लेटफॉर्म में संबंधित केंद्र के उपकरण में पंजीकृत करेगा और उसे टीका लगाया जाएगा।

सरकार ने रेखांकित किया, "वॉक-इन [ऑन-साइट पंजीकरण] टीकाकरण सभी के लिए स्वीकार्य है और टीकाकरण तक पहुंच के लिए डिजिटल डिवाइड कोई बाधा नहीं है"।

इस प्रकार, सरकार ने कहा कि उपलब्धता या अन्यथा डिजिटल डिवाइस या इंटरनेट के आधार पर टीकाकरण में कोई बाधा नहीं है।

शीर्ष अदालत द्वारा शुरू किए गए COVID-19 प्रबंधन पर स्वत: संज्ञान मामले में केंद्र का जवाब आया।

मामले की सुनवाई करते हुए जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़, एल नागेश्वर राव और रवींद्र भट की तीन-न्यायाधीशों की बेंच ने पहले सरकार की टीकाकरण नीति की आलोचना की थी और इसे मनमाना करार दिया था।

केंद्र ने जोर देकर कहा कि इस तरह के "ऑन-साइट" पंजीकरण, घर के पास पंजीकरण आदि पहल न केवल कागज पर विचार हैं बल्कि वास्तव में बहुत सक्रिय रूप से कार्यान्वित किए जाते हैं क्योंकि टीकाकरण के आंकड़े प्रदर्शित होंगे।

केंद्र सरकार के हलफनामे के अनुसार, राज्य सरकारों द्वारा को-विन पर अब तक ग्रामीण केंद्र या शहरी केंद्र के रूप में वर्गीकृत कुल 1,24,969 टीकाकरण केंद्रों में से 93,044 टीकाकरण केंद्र, यानी 74.45%, ग्रामीण क्षेत्रों में स्थित हैं।

1 मई से 23 जून की अवधि में इन 1,24,969 टीकाकरण केंद्रों के माध्यम से प्रशासित कुल 17,10,18,010 खुराक में से, 9,61,84,637 (56.24%) खुराक ग्रामीण टीकाकरण केंद्रों पर प्रशासित की गई हैं।

टीकाकरण अभियान में निजी अस्पतालों की भागीदारी पर केंद्र ने शीर्ष अदालत को सूचित किया कि देश की लगभग 55 प्रतिशत आबादी निजी अस्पतालों से चिकित्सा देखभाल और स्वास्थ्य सेवाएं लेती है और 45 प्रतिशत सरकारी अस्पतालों से स्वास्थ्य देखभाल सेवाएं प्राप्त करती है।

"किसी भी सार्वजनिक स्वास्थ्य कार्यक्रम में - चाहे वह टीकाकरण हो या अन्यथा, निजी अस्पतालों की भागीदारी हमेशा वांछनीय पाई जाती है। यह सम्मानपूर्वक प्रस्तुत किया जाता है कि उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार देश की लगभग 55 प्रतिशत आबादी निजी अस्पतालों से चिकित्सा देखभाल / स्वास्थ्य सेवाएं लेती है और 45 प्रतिशत सरकारी अस्पतालों से स्वास्थ्य देखभाल सेवाएं प्राप्त करती है।"

यद्यपि सभी नागरिकों के लिए सभी सरकारी टीकाकरण केंद्रों पर टीकाकरण मुफ्त है, फिर भी समीक्षा की गई नीति में एक नई अवधारणा पेश की गई है ताकि निजी टीकाकरण केंद्रों को समाज के आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के लिए भी 'गैर-हस्तांतरणीय वाउचर' के उपयोग से सुलभ बनाया जा सके।

यह प्रस्तुत किया गया, "कोई भी व्यक्ति/संस्था/उद्योग/एनजीओ वित्तीय क्षमता रखने वाले ऐसे" गैर-हस्तांतरणीय इलेक्ट्रॉनिक वाउचर " खरीद सकते हैं और इसे अपने कर्मचारियों / समाज के अन्य आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों को दे सकते हैं।"

"कई उद्योग या अन्य अपने कर्मचारियों के लिए इसका उपयोग कर सकते हैं और कोई भी गैर सरकारी संगठन / स्वयंसेवी संगठन आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों को ऐसे वाउचर दे सकते हैं"।

सरकार ने यह भी स्पष्ट किया कि विकलांगों के लिए घर-घर टीकाकरण नहीं किया जाएगा क्योंकि यह राष्ट्रीय COVID-19 टीकाकरण कार्यक्रम के तहत प्रावधान नहीं है।

इसका कारण कोल्ड चेन के टूटने का जोखिम, वैक्सीन की बर्बादी, स्वास्थ्य सुविधा तक पहुंचने में देरी के कारण टीकाकरण कार्यक्रम की समय सारिणी के पटरी से उतरना आदि जैसे मुद्दे थे।

और अधिक पढ़ने के लिए नीचे दिये गए लिंक पर क्लिक करें


[BREAKING] Digital Divide not a constraint for access to COVID vaccination; involvement of private hospitals desirable: Centre to Supreme Court

Related Stories

No stories found.