नेताजी सुभाष चंद्र बोस के पोते ने जापान से नश्वर अवशेष वापस लाने के लिए कलकत्ता हाईकोर्ट का रुख किया

याचिकाकर्ता ने कहा कि स्वतंत्रता आंदोलन के बारे में फिल्मों, किताबों और अन्य प्रकाशनों में चित्रित घटनाओं की ऐतिहासिक प्रामाणिकता और सत्यता के सावधानीपूर्वक सत्यापन की आवश्यकता है।
Calcutta High Court and Subhash Chandra Bose
Calcutta High Court and Subhash Chandra Bose

स्वतंत्रता सेनानी सुभाष चंद्र बोस के पौत्र चंद्र कुमार बोस ने नेताजी और भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन पर साहित्य और फिल्मों में विरूपण और गलत सूचना को रोकने के लिए केंद्र सरकार द्वारा कार्रवाई की मांग करते हुए कलकत्ता उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया है।

याचिकाकर्ता ने केंद्र सरकार से "प्रख्यात प्रतिनिधियों (रिश्तेदारों सहित)" की एक टीम गठित करने का भी आग्रह किया, ताकि नेताजी के नश्वर अवशेषों को जापान के टोक्यो में रेंकोजी मंदिर में वर्तमान विश्राम स्थल से भारत वापस लाया जा सके।

याचिकाकर्ता ने कहा कि स्वतंत्रता आंदोलन के बारे में फिल्मों, किताबों और अन्य प्रकाशनों में चित्रित घटनाओं की ऐतिहासिक प्रामाणिकता और सत्यता के सावधानीपूर्वक सत्यापन की आवश्यकता है।

याचिका में नेताजी के साथ किए गए प्रतिकूल व्यवहार और उनके जीवन-इतिहास को कैसे विकृत किया जा रहा है, इस बारे में विशेष चिंता जताई गई थी।

याचिकाकर्ता के अनुसार, वर्तमान सरकार द्वारा निम्नलिखित रिपोर्टों को अवर्गीकृत किया गया है जो निर्णायक रूप से स्थापित करती हैं कि नेताजी की मृत्यु 18 अगस्त, 1945 को ताइवान में एक हवाई दुर्घटना में हुई थी:

1) जापानी प्रारंभिक रिपोर्ट, सितम्बर 1945,

2)ब्रिटिश-भारत सरकार की रिपोर्ट, अक्टूबर 1945,

3) फिगेस की रिपोर्ट, जुलाई 1946,

4) हरिन शाह की (निजी) रिपोर्ट, सितंबर 1946,

5) टर्नर की रिपोर्ट, अक्टूबर 1946,

6) इंडियन इंडिपेंडेंस लीग (प्राइवेट) की रिपोर्ट, जून 1954,

7) जापानी विस्तृत रिपोर्ट, जनवरी 1956,

8) ताइवान सरकार की रिपोर्ट, जून 1956,

9) शान नवाज खान समिति की रिपोर्ट, अगस्त 1956,

10) जस्टिस खोसला आयोग की रिपोर्ट, 1974।

और अधिक पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें


Grand-Nephew of Netaji Subhas Chandra Bose moves Calcutta HC to bring back mortal remains from Japan; seeks action against distorting history

Hindi Bar & Bench
hindi.barandbench.com