[ब्रेकिंग] डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी की मृत्यु की न्यायिक जांच, दस्तावेजो के खुलासे की मांग को लेकर कलकत्ता HC मे याचिका दायर

दो वकीलों द्वारा दायर याचिका में केंद्र और पश्चिम बंगाल सरकारों से स्पष्ट बयान देने की भी मांग की गई थी कि क्या मृत्यु भारत के तत्कालीन प्रधान मंत्री जवाहरलाल नेहरू की साजिश का परिणाम थी।
[ब्रेकिंग] डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी की मृत्यु की न्यायिक जांच, दस्तावेजो के खुलासे की मांग को लेकर कलकत्ता HC मे याचिका दायर

भारतीय जनसंघ के संस्थापक डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी की 1953 में पुलिस हिरासत के दौरान कश्मीर में मृत्यु हो जाने के मामले में भारत के एक सेवानिवृत्त मुख्य न्यायाधीश द्वारा जांच के लिए कलकत्ता उच्च न्यायालय के समक्ष एक याचिका दायर की गई है।

दो वकीलों, स्मृतिजीत रॉय चौधरी और अजीत कुमार मिश्रा द्वारा दायर याचिका में मुखर्जी की मौत से संबंधित सभी दस्तावेजों को सार्वजनिक करने के अलावा केंद्र और पश्चिम बंगाल सरकारों के एक स्पष्ट बयान की मांग की गई थी कि क्या मृत्यु भारत के तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू द्वारा साजिश का परिणाम थी।

याचिका में कहा गया है, "भारत के नागरिकों को इस बारे में कोई जानकारी नहीं है कि डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी की मृत्यु कैसे हुई, जब वह हिरासत में थे। इसलिए, सभी नागरिकों को मुखर्जी की रहस्यमय मौत के बारे में जानकारी प्राप्त करने का अधिकार है।"

मुखर्जी, जो नेहरू के तहत 1947 में गठित अंतरिम केंद्र सरकार में उद्योग और आपूर्ति मंत्री थे, बाद में अलग हो गए और अल्पसंख्यक अधिकारों और अल्पसंख्यक आयोगों की स्थापना से संबंधित मुद्दों पर कैबिनेट से इस्तीफा दे दिया।

बाद में उन्होंने 1952 में हुए पहले आम चुनावों में लोकसभा में 3 सीटें जीतने वाली BJS की स्थापना की थी। बाद में उन्होंने अनुच्छेद 370 से असहमति के कारण नेहरू सरकार की कश्मीर नीति का कड़ा विरोध किया था।

कश्मीर में प्रवेश करने की कोशिश करते हुए, जिसमें उस समय परमिट प्रणाली थी, उसे कटुआ पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

याचिकाकर्ता के अनुसार, बाद में कैद में रहते हुए रहस्यमय परिस्थितियों में उनकी मृत्यु हो गई।

याचिका में सवाल उठाया गया है कि शेख अब्दुल्ला की सरकार ने मुखर्जी को अदालत के सामने पेश क्यों नहीं किया, जो उस समय कश्मीर में सत्ता में थी।

इसलिए, याचिका में केंद्र सरकार, केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर और पश्चिम बंगाल सरकार को मुखर्जी की मौत के संबंध में अदालत के समक्ष विस्तृत रिपोर्ट प्रस्तुत करने के लिए निर्देश जारी करने की मांग की गई है।

और अधिक पढ़ने के लिए नीचे दिये गए लिंक पर क्लिक करें


[BREAKING] Plea in Calcutta High Court seeks judicial probe into death of Dr. Syama Prasad Mukherjee, declassification of documents

Hindi Bar & Bench
hindi.barandbench.com